Ankita Bhandari Murder Case

ankita bhandari
ankita bhandri news

मात्र 19 साल की उम्र में अंकिता सत्ता के नशे में 4 लोगों की हवस का शिकार बन गई। एक छोटी सी बच्ची है जिसकी आँखों में ढेरों सपने थे। अपने माँ बाप का नाम रोशन करना चाहती थी। आज पूरी तरह से खामोश हैं। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड की अंकिता भंडारी के बारे में जिसकी मौत आज सुर्खियां बनी हुई है और कातिल कोई और नहीं बल्कि BJP नेता का बेटा। पुलकित आर्य है, जिसने अंकिता से कुछ ऐसा करने के लिए कहा जिसके लिए अंकिता ने साफ मना कर दिया और फिर पुलकित ने अपने साथियों के साथ मिलकर अंकिता को हमेशा हमेशा के लिए मौत के घाट उतार दिया। तो क्या है पूरा मामला? आखिर क्यों ये मौत की साजिश रची गयी? चलिए जानते हैं उत्तराखंड के जनपद पौड़ी के कोट में रहने वाली अंकिता भंडारी की उम्र मात्र 19 साल थी और वो वंतड़ा रिसोर्ट में रिसेप्शनिस्ट का काम करती थी जिसकी जिंदगी वैसे तो बहुत बढ़िया चल रही थी लेकिन फिर 18 सितंबर से अचानक वो लापता हो गई। उत्तराखंड पुलिस का कहना है कि इस मामले में बताया गया कि अंकिता भंडारी चार 5 दिन से गायब थी। इस इलाके से अंकिता गायब हुई थी। वो राजस्व पुलिस का क्षेत्र है और पटवारी में अंकिता की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखी गई थी। लेकिन कुछ ही समय में पुलिस को पता चल गया कि यह बात केवल गुमशुदगी की नहीं बल्कि मामला कुछ और ही था जिसके एक एक पन्ने खोलना शुरू हुए और फिर एक ऐसा राज़ सामने आया जिसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया। जहाँ मामला जब पुलिस के पास आया तो 24 घंटे के अंदर ही जांच के बाद तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार वॉट्सऐप पर अंकिता ने अपने करीबी दोस्त को परेशान होने की खबर दी थी और उसी वॉट्सऐप चैट के जरिए यह भी पता चलता है कि आखिर ये पूरा मामला क्या था जिसे रिसोर्ट में अंकिता काम करती थी। वहाँ के बाकी कर्मचारियों ने पुलिस को यह बताया कि अंकिता उस रात करीब 8:00 बजे तीनों आरोपियों के साथ निकली थी। रात 10.5 और 11:00 बजे के करीब तीनों आरोपी ही वापस आए। अंकिता उनके साथ नहीं थी। उस रात उन तीनों आरोपियों ने रिसोर्ट के कुक से खाना बनवाया। सर अंकिता का खाना रिसोर्ट के मैनेजर अंकित ने खुद उसके कमरे तक पहुंचाने की बात कही। रिसोर्ट के कर्मचारियों से बातचीत करने के बाद पुलिस ने पुलकित आरे, अंकित गुप्ता और सौरव भास्कर को पूछ्ताछ के लिए थाने लेकर गए। जब पूछ्ताछ की गई तो पहले तीनों ने खूब कहानी बनाई, लेकिन फिर पुलिस के सामने तीनों टूट गए और फिर उन्होंने अपना गुनाह कबूल करते हुए कहा कि अंकिता को नहर में धक्का दे दिया है। आरोपियों ने जो बात पुलिस को बताई वो सुनकर आप चौंक जाएंगे। जी हाँ, आरोपियों का कहना था कि 18 सितंबर की शाम को अंकता और रिसोर्ट के मालिक पुलकित के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। अब वो क्या भी बात था उसके बारे में हम आपको आगे बताएंगे। लेकिन जब अंकिता और पुलकित के बीच बहस हो गयी थी तो उसके बाद पोल कितने अंकिता को ऋषिकेश घुमाकर लाने की बात कही। अंकित और सौरव भी कुछ ऐसा ही करने लगे, जिसके बाद एक बाइक और एक स्कूटी से चारों लोग ऋषिकेश के लिए रवाना हो गए। चारों जब ऋषिकेश पहुंचे तो वहाँ से लौटने लगे। वापसी में बैराज चौकी से करीब डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर पुलकित और अंकिता अंधेरे में एक जगह रुके। चिल्ला रोड पर नहर के किनारे वही रुक कर चारों ने समोसे खाये और तीनों लड़कों ने शराब पी। इस दौरान अंकिता और पुलकित के बीच किसी बात को लेकर बहस होने लगी। जब पुलिस ने तीनों आरोपियों से उसके बारे में पूछ्ताछ करी तो सभी ने प्लैन के मुताबिक रची गई कहानी सुनानी शुरू कर दी। लेकिन पुलिस ने जब सख्ती बरती तो तीनों टूट गए और फिर उन्होंने सच बता दिया। आरोपियों ने कहा कि वो लोग बैराज चौकी से आगे पहुंचे और चिल्लाने पर रुक गए। वहाँ पर पुलकित और सौरभ ने जमकर शराब पी। और यह सब कुछ अंकिता अपनी आँखों से देखती रही। तभी अचानक से अंकिता पुलकित के ऊपर नाराज होने लगी। अंकिता ने कहा कि वो रिसोर्ट में होने वाले गंदे कामों की जानकारी सभी को दे देगी। अंकिता के घरवालों को बताया जाने की बात सुनकर पुलकित और ज्यादा भड़क गया और दोनों के बीच झगड़ा बढ़ गया। झगड़े के बीच अंकिता ने पुलकित का मोबाइल नहर में फेंक दिया और देखते ही देखते अंकिता और पुलकित के बीच हाथापाई शुरू होने लगी। दोनों में हाथापाई हो ही रही थी कि गुस्से में आकर पुलकित ने अंकिता को नहर में धक्का दे दिया। नहर में गिरने के बाद अंकिता बचा लो बचा लो चिल्लाने लगी और बार बार पानी से बाहर आने की कोशिश भी कर रही थी। लेकिन वहीं खड़े अंकित और सौरभ ने उसकी कोई मदद नहीं करी और नहर का बहाव तेज होने की वजह से कुछ देर में अंकिता डूब गयी। जब पुलकित ने पुलिस को यह जानकारी दी तो उन्होंने तुरंत जिला नहर पर अपनी जांच बिठाई और उसका शव बरामद कर लिया

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *